VIDEO: उत्तरकाशी सुरंग से बचाए गए 41 श्रमिक दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे, यहां से अपने घरों के लिए होंगे रवाना

उत्तरकाशी सुरंग से बचाए गए 41 श्रमिक दिल्ली एयरपोर्ट पहुंच गए हैं. यहां से वे अपने घरों के लिए रवाना होंगे. 12 नवंबर 2023 को सिल्कयारा से बारकोट तक निर्माणाधीन सुरंग में 60 मीटर हिस्से में मलबा गिरने से सुरंग ढह गई थी. इस दौरान टनल में 41 मजदूर मौजूद थे जो अंदर ही फंस गए थे. घटना के बाद से ही बचाव कार्य शुरु कर दिया गया था. राज्य और केंद्र सरकारों द्वारा तत्काल संसाधन जुटाए गए थे. पांच एजेंसियों- ओएनजीसी, एसजेवीएनएल, आरवीएनएल, एनएचआईडीसीएल और टीएचडीसीएल को विशिष्ट जिम्मेदारियां सौंपी गई थी. साथ ही विदेशी एक्सपर्ट को भी इस रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए लगाया गया था. घटना के 17 दिन बाद 28 नवंबर की शाम को टनल में फंसे सभी 41 मजदूरों को बचाया गया था. Silkyara Tunnel First Inside Video: सुरंग में फंसे मजदूर ने टनल के अंदर रिकॉर्ड किया था वीडियो, देखें किस हालात में मौत से लड़ रहे थे जंग

ABP C-Voter Chhattisgarh Exit Poll: छत्तीसगढ़ में सत्ता में बनी रहेगी कांग्रेस? यहां देखें एग्जिट पोल के नतीजे

नई दिल्ली, 30 नवंबर: एबीपी न्यूज के लिए सी-वोटर के एक विशेष एग्जिट पोल से पता चला है कि कांग्रेस विधानसभा चुनाव के लेटेस्ट राउंड में छत्तीसगढ़ में सत्ता बरकरार रखने के काफी करीब है. यह 2018 के पिछले चुनावों के विपरीत है, जब कांग्रेस ने 90 में से 68 सीटें जीतकर राज्य में भाजपा के 15 साल के शासनकाल को समाप्त कर दिया था.

19,171 के सैंपल साइज के साथ किए गए लेटेस्ट एबीपी सीवोटर एग्जिट पोल के अनुसार, कांग्रेस को 41 से 53 सीटें जीतने का अनुमान है. पार्टी को 43.4 प्रतिशत वोट मिलने का अनुमान है, जो 2018 की तुलना में थोड़ा अधिक है. ABP C-Voter MP Exit Poll: कांग्रेस मध्य प्रदेश को भाजपा से छीनने को तैयार, एग्जिट पोल देख BJP की उड़ जाएगी नींद

भाजपा का वोट शेयर 2018 में 33 प्रतिशत से नाटकीय रूप से बढ़कर इस बार 41.2 प्रतिशत होने का अनुमान है. वोट शेयर में बड़ा उछाल भाजपा को छत्तीसगढ़ में सत्ता में लौटने में मदद करता नहीं दिख रहा है, क्योंकि उसके 36 से 48 सीटें जीतने का अनुमान है.

भाजपा और कांग्रेस दोनों को छोटी पार्टियों की कीमत पर वोट शेयर में बढ़त मिलने का अनुमान है. अन्य को 2018 में 23.9 फीसदी वोट शेयर मिला था, जो इस बार घटकर 15.4 फीसदी रहने का अनुमान है. इस बार उनके 0 से 4 सीटें जीतने का अनुमान है. यह छत्तीसगढ़ में कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधा मुकाबला बनाता दिख रहा है.

एग्जिट पोल के आंकड़ों के गहन विश्लेषण के मुताबिक कहानी में ट्विस्ट आने की संभावना है. पोल के मुताबिक, राज्य में करीब 28 सीटें ऐसी हैं, जहां दोनों दलों के बीच कांटे की टक्कर है और जीत का अंतर कम हो सकता है.

एबीपी-सीवोटर के अनुमानों के अनुसार, यदि सभी सीमांत सीटें सत्ता विरोधी हो जाती हैं, तो भाजपा वास्तव में 54 से 60 सीटें जीतकर राज्य पर दोबारा कब्जा कर सकती है. हालांकि, यदि सीमांत की सभी सीटें सत्ताधारियों के पक्ष में जाती हैं, तो कांग्रेस 56 से 62 सीटें जीतकर सत्ता बरकरार रखेगी.

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के नतीजे 3 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे.

देश की खबरें | भारत, चीन अगले दौर की सैन्य वार्ता जल्द करने पर हुए सहमत

नयी दिल्ली, 30 नवंबर भारत और चीन ने बृहस्पतिवार को शेष मुद्दों का समाधान करने और पूर्वी लद्दाख में सैनिकों को पूर्णत: पीछे हटाने के प्रस्तावों पर “रचनात्मक” कूटनीतिक वार्ता की, लेकिन इसमें कोई बड़ी सफलता प्राप्त होने का कोई स्पष्ट संकेत नहीं मिला है।
विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्षों ने “उद्देश्य” हासिल करने के लिए वरिष्ठ कमांडरों की बैठक का अगला दौर जल्द आयोजित करने का फैसला किया और जमीन पर स्थिर स्थिति सुनिश्चित करने तथा किसी भी तरह की अप्रिय घटना से बचने की आवश्यकता पर सहमति व्यक्त की।
इसमें कहा गया है कि दोनों पक्षों ने स्थिति की समीक्षा की और शेष मुद्दों का समाधान करने एवं पूर्वी लद्दाख में सैनिकों को पूर्णत: पीछे हटाने संबंधी प्रस्तावों पर “खुली, रचनात्मक और गहन” चर्चा की।
यह वार्ता डिजिटल तरीके से भारत-चीन सीमा मामलों (डब्ल्यूएमसीसी) पर परामर्श एवं समन्वय के लिए कार्य तंत्र ढांचे के तहत हुई।
विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया) गौरांगलाल दास ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। चीनी दल का नेतृत्व चीन के विदेश मंत्रालय में सीमा एवं समुद्री मामलों के महानिदेशक ने किया।
विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘दोनों पक्षों ने भारत-चीन सीमा क्षेत्रों के पश्चिमी सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से लगे क्षेत्र में स्थिति की समीक्षा की और शेष मुद्दों का समाधान करने एवं पूर्वी लद्दाख में सैनिकों को पूर्णत: पीछे हटाने के प्रस्तावों पर खुली, रचनात्मक और गहन चर्चा की।’’
इसमें कहा गया है, ‘‘दोनों पक्ष सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बनाए रखने, जमीन पर स्थिर स्थिति सुनिश्चित करने और किसी भी अप्रिय घटना से बचने की आवश्यकता पर सहमत हुए।’’
विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘‘दोनों पक्ष सैन्य और कूटनीतिक वार्ता जारी रखने और उपरोक्त उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए वरिष्ठ कमांडरों की बैठक का अगला दौर जल्द आयोजित करने पर सहमत हुए।’’
गत अक्टूबर में हुई सैन्य वार्ता में, भारतीय पक्ष ने देपसांग और डेमचोक में लंबित मुद्दों के समाधान पर जोर दिया था।
भारत और चीन के सैनिकों के बीच पूर्वी लद्दाख में कुछ टकराव वाले बिंदुओं पर तीन साल से अधिक समय से गतिरोध की स्थिति है। हालांकि, दोनों पक्षों ने व्यापक कूटनीतिक और सैन्य वार्ता के बाद कई क्षेत्रों से सैनिकों की वापसी पूरी कर ली है।
भारत का कहना है कि जब तक सीमावर्ती इलाकों में शांति बहाल नहीं होगी, तब तक चीन के साथ उसके संबंध सामान्य नहीं हो सकते।
पैंगोंग झील क्षेत्र में हिंसक झड़प के बाद 5 मई, 2020 को पूर्वी लद्दाख सीमा पर गतिरोध पैदा हो गया था।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | मध्य प्रदेश, राजस्थान में भाजपा आगे, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में कांग्रेस: एक्जिट पोल

नयी दिल्ली, 30 नवंबर देश के पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के लिए मतदान के बाद आए ज्यादातर एग्जिट पोल (चुनाव बाद सर्वेक्षण) में बृहस्पतिवार को मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को आगे बताया गया और राजस्थान में कांटे का मुकाबला बताया जबकि तेलंगाना और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को बढ़त मिलने का अनुमान जताया गया।
इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया, टुडेज चाणक्य और इंडिया टीवी-सीएनएक्स ने मध्य प्रदेश में भाजपा की बड़ी जीत की भविष्यवाणी की है। जबकि ज्यादातर एग्जिट पोल में राजस्थान में कांटे की टक्कर के साथ भाजपा को बढ़त मिलने का अनुमान जताया गया है। वही, तीन एग्जिट पोल ने अपनी ऊपरी सीमा में इस रेगिस्तानी राज्य में कांग्रेस की जीत का अनुमान लगाया गया है।
एग्जिट पोल से यह भी संकेत मिल रहा है कि मिजोरम में त्रिशंकु विधानसभा हो क्योंकि जोरम पीपुल्स मूवमेंट (जेडपीएम) और सत्तारूढ़ मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) के बीच कांटे की टक्कर हुई है। पूर्वोत्तर के इस राज्य में कांग्रेस और भाजपा को पीछे दिखाया गया।
मध्य प्रदेश (230 सीटें) में भाजपा सत्ता में है, जबकि कांग्रेस राजस्थान (200) और छत्तीसगढ़ (90) में सत्ता में है। तेलंगाना में के. चंद्रशेखर राव के नेतृत्व वाली भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) 10 साल से सत्ता में है और मिजोरम में एमएनएफ सरकार में है।
पांच राज्यों में चुनाव सात नवंबर से 30 नवंबर के बीच हुए थे और मतगणना तीन दिसंबर को होगी।
मध्य प्रदेश में, दैनिक भास्कर ने भाजपा को 95-115 सीटें और कांग्रेस को 105-120 सीटें मिलने का अनुमान जताया है, जबकि इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया ने भाजपा को 140 से 162 सीटें और कांग्रेस को 68-90 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।
इंडिया टीवी सीएनएक्स ने भी भाजपा को 140 से 159 सीटें और कांग्रेस को 70 से 89 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।
टुडेज चाणक्य ने अनुमान जताया है कि भाजपा को 151 (इस आंकड़े से 12 सीटें कम या ज्यादा) और कांग्रेस को 74 (इस आंकड़े से 12 सीटें कम या ज्यादा) मिल सकती हैं।
‘जन की बात’ के एग्जिट पोल में भाजपा को 100-123 सीटें, कांग्रेस को 102-125 सीटें, रिपब्लिक टीवी-मैट्रीज ने भाजपा को 118-130 सीटें और कांग्रेस को 97-107 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।
टीवी9 भारतवर्ष पोलस्ट्रेट के एग्जिट पोल के मुताबिक भाजपा को 106-116 और कांग्रेस को 111-121 सीटें मिल सकती हैं। टाइम्स नाउ-ईटीजी ने भाजपा को 105-117 सीटें और कांग्रेस को 109-125 सीटें दी हैं।
जिस्ट-टीआईएफ-एनएआई ने कहा कि कांग्रेस मध्य प्रदेश में 2018 जैसी बढ़त लेती दिख रही है। उसके मुताबिक कांग्रेस 107-124 सीटें जीत सकती है जबकि भाजपा को 102-119 सीटें मिल सकती हैं।
राजस्थान में, इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया ने कांटे के मुकाबले की बात कहते हुए कांग्रेस को 86-106 सीटें, भाजपा को 80-100 सीटें और अन्य को 9-18 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।
दैनिक भास्कर ने भाजपा को 98-105 सीटें और कांग्रेस को 85-95 सीटें दी हैं, वहीं जन की बात के सर्वेक्षणकर्ताओं ने भाजपा को 100-122 और कांग्रेस को 62-85 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।

टीवी9 भारतवर्ष-पोलस्ट्रेट ने भाजपा को 100-110 और कांग्रेस को 90-100 सीटें मिलने का अनुमान जताया है। टाइम्स नाउ ईटीजी के एग्जिट पोल में राजस्थान में भाजपा को 108-128 सीटें और कांग्रेस को 56-72 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है।

टुडेज चाणक्य ने कांग्रेस को साधारण बहुमत देते हुए कहा कि उसे भाजपा के 89 के मुकाबले 101 सीटें मिलेंगी।

इंडिया टीवी-सीएनएक्स ने 200 सदस्यीय सदन में कांग्रेस को 94 से 104 और भाजपा को 80-90 सीटें मिलने का अनुमान जताया है, वहीं रिपब्लिक टीवी-मैट्रिज ने भाजपा को 115-130 सीटें और कांग्रेस को 65-75 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।
पी-मार्क के एग्जिट पोल में भाजपा को 105-125 सीटें और कांग्रेस को 69-91 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है।
जिस्ट-टीआईएफ-एनएआई ने भविष्यवाणी की कि राजस्थान में सरकार बदलने की परंपरा जारी रहेगी, जिसमें भाजपा को 110 सीटें और कांग्रेस को 70 सीटें मिलने का अनुमान है।
छत्तीसगढ़ में एबीपी न्यूज-सी वोटर ने 90 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस को 41-53 और भाजपा को 36-48 सीटें मिलने का अनुमान जताया है, वहीं इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया ने कांग्रेस को 40-50 सीटें और भाजपा को 36-46 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।
इंडिया टीवी-सीएनएक्स ने कांग्रेस को 46-56 सीटें और भाजपा को 30-40 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।

न्यूज 24-टुडेज चाणक्य ने भविष्यवाणी की कि कांग्रेस को 57 सीटों (इस आंकड़े से 8 सीट कम या ज्यादा) के साथ स्पष्ट बहुमत मिलेगा, जबकि भाजपा को 33 सीटें (इस आंकड़े से 8 सीट कम या ज्यादा) मिलेंगी।
‘जन की बात’ के मुताबिक भाजपा को 34-45 और कांग्रेस को 42-53 सीटें मिल सकती हैं।
दैनिक भास्कर ने भी कांग्रेस की जीत की भविष्यवाणी करते हुए उसे 46-55 सीटें और भाजपा को 35-45 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।
तेलंगाना में, इंडिया टीवी-सीएनएक्स ने कांग्रेस को 63-79, बीआरएस को 31-47, भाजपा को 2-4 और एआईएमआईएम को 5-7 सीटें मिलने का अनुमान जताया है, वहीं जन की बात के अनुसार कांग्रेस को 48-64, बीआरएस को 40-55, भाजपा को 7-13 और एआईएमआईएम को 4-7 सीटें मिल सकती हैं।
रिपब्लिक टीवी-मैट्रिज ने तेलंगाना में कांग्रेस को 58-68, बीआरएस को 46-56, बीजेपी को 4-9 और एआईएमआईएम को 5-7 सीटें मिलने का अनुमान जताया है। टीवी9 भारतवर्ष ने कांग्रेस को 49-59 सीट, बीआरएस को 48-58 सीट, भाजपा को 5-10 सीट और एआईएमआईएम को 6-8 सीट मिलने का अनुमान जताया है।
न्यूज 24-टुडेज चाणक्य ने कांग्रेस को 71 सीटें देकर स्पष्ट जीत की उम्मीद जताई है है, जबकि बीआरएस को 33 और भाजपा को 7 सीटें मिलने का अनुमान जताया है।
मिजोरम में, इंडिया टीवी-सीएनएक्स ने 40 सदस्यीय सदन में एमएनएफ को 14-18 सीटें, जेडपीएम को 12-16, कांग्रेस को 8-10 और भाजपा को 0-2 सीटें मिलने का अनुमान जताया है, वहीं एबीपी न्यूज-सी वोटर ने कहा कि एमएनएफ को 15-21, जेडपीएम को 12-18 और कांग्रेस को 2-8 सीटें मिल सकती हैं।

जन की बात के मुताबिक एमएनएफ को 10-14 सीटें, जेडपीएम को 15-25 सीटें, कांग्रेस को 5-9 सीटें और भाजपा को 0-2 सीटें मिल सकती हैं।

रिपब्लिक मैट्रिज ने कहा कि एमएनएफ को 17-22, जेडपीएम को 7-12, कांग्रेस को 7-10 और भाजपा को 1-2 सीट मिल सकती है। टाइम्स नाउ-ईटीजी ने एमएनएफ को 14-18, जेडपीएम को 10-14, कांग्रेस को 9-13 और भाजपा को 0-2 सीटें मिलने का अनुमान व्यक्त किया है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

Silkyara Tunnel First Inside Video: सुरंग में फंसे मजदूर ने टनल के अंदर रिकॉर्ड किया था वीडियो, देखें किस हालात में मौत से लड़ रहे थे जंग

28 नवंबर को उत्तरकाशी की सिलक्यारा सुरंग में फंसे सभी 41 मजदूरों को सही सलामत रेस्क्यू कर लिया गया था. अब सुरंग के अंदर की वीडियो भी सामने आई है. उत्तरकाशी सुरंग के अंदर 2 किलोमीटर की दूरी का ये वीडियो 28 नवंबर को रिकॉर्ड किया गया है. फंसे हुए श्रमिकों में से एक ने ये वीडियो ने बनाया है. वीडियो में एक अधिकारी मजदूरों से उनका हाल जान रहा है.

12 नवंबर 2023 को सिल्कयारा से बारकोट तक निर्माणाधीन सुरंग में 60 मीटर हिस्से में मलबा गिरने से सुरंग ढह गई थी. इस दौरान टनल में 41 मजदूर मौजूद थे जो अंदर ही फंस गए थे. घटना के बाद से ही बचाव कार्य शुरु कर दिया गया था. राज्य और केंद्र सरकारों द्वारा तत्काल संसाधन जुटाए गए थे. पांच एजेंसियों- ओएनजीसी, एसजेवीएनएल, आरवीएनएल, एनएचआईडीसीएल और टीएचडीसीएल को विशिष्ट जिम्मेदारियां सौंपी गई थी. साथ ही विदेशी एक्सपर्ट को भी इस रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए लगाया गया था. घटना के 17 दिन बाद 28 नवंबर की शाम को टनल में फंसे सभी 41 मजदूरों को बचाया गया था.

देश की खबरें | सभी श्रमिक स्वस्थ, अपने घर जा सकते हैं: एम्स ऋषिकेश

ऋषिकेश, 30 नवंबर उत्तरकाशी जिले की सिलक्यारा सुरंग से निकाले गए सभी 41 श्रमिक अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में हुई चिकित्सकीय जांचों में स्वस्थ पाए गए और उन्हें घर जाने की अनुमति दे दी गयी जिसके बाद कई श्रमिक अपने घरों के लिए रवाना हो गए हैं।
एम्स प्रशासन ने यहां मीडिया को बताया कि सभी श्रमिक चिकित्सकीय जांच में स्वस्थ पाये गये हैं और उन्हें घर जाने की अनुमति दे दी गयी है।
एम्स के जनरल मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉ. रविकांत ने बताया कि श्रमिकों का गहन परीक्षण किया गया और उनकी रक्त जांच, ईसीजी और एक्स-रे रिपोर्ट सामान्य आयी हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘वे शारीरिक रूप से स्वस्थ और चिकित्सकीय रूप से स्थिर हैं। हमने उन्हें घर जाने की अनुमति दे दी है।’’
हालांकि, डॉ. रविकांत ने बताया कि उत्तराखंड का निवासी एक श्रमिक ह्रदय संबंधी रोग से पीड़ित पाया गया है और फिलहाल उसे अस्पताल में ही रोका गया है ।
उन्होंने हालांकि, स्पष्ट किया कि चंपावत जिले के रहने वाले पुष्कर सिंह ऐरी की इस समस्या का सुरंग हादसे से कोई संबंध नहीं है और उन्हें यह बीमारी जन्म से है।
डॉ. रविकांत ने बताया कि श्रमिक में एट्रियल सेप्टल डिफेक्ट (एएसडी) की समस्या पाए जाने के बाद उन्हें आगे की जांच के लिए आपदा वार्ड से कार्डियोलॉजी विभाग में स्थानांतरित कर दिया गया है ।
चारधाम यात्रा मार्ग पर निर्माणाधीन साढ़े चार किलोमीटर लंबी सुरंग का एक हिस्सा 12 नवंबर को ढह गया था जिससे उसमें 41 श्रमिक फंस गए थे। लगातार युद्धस्तर पर केंद्र और राज्य सरकार की एजेंसियों द्वारा चलाए गए बचाव अभियान के 17 वें दिन मंगलवार रात उन्हें बाहर निकालने में सफलता मिली थी।
सुरंग से बाहर निकालने के बाद गहन स्वास्थ्य परीक्षण के लिए बुधवार को उन्हें एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया था ।
डॉ. रविकांत ने बताया कि श्रमिक इतने लंबे समय तक सुरंग में रहे हैं इसलिए इन्हें वातावरणीय अनुकूलन की जरूरत है जो कुछ दिनों में हो जाएगा।
यहां से छुट्टी होने के बाद भी इन श्रमिकों का एम्स से संपर्क बना रहेगा और इनके स्वास्थ्य पर लगातार निगरानी रखी जाएगी। उन्होंने बताया कि इसके लिए श्रमिकों के मोबाइल नंबर ले लिए गये हैं।
उन्होंने बताया कि श्रमिकों के गृह राज्यों के मेडिल कॉलेज व अस्पताल से भी संपर्क कर इनके बारे में बता दिया गया है। उन्होंने कहा कि श्रमिकों को दो सप्ताह बाद अपने निकटवर्ती अस्पताल में जाकर चिकित्सा जांच कराने की सलाह दी गयी है।
डॉ. रविकांत ने कहा, ‘‘श्रमिकों के अंगों की स्क्रीनिंग के आधार पर हम कह सकते हैं कि ये सभी यात्रा करने के लिए स्वस्थ हैं । सुरंग में फंसे होने के दौरान इनको भोजन ठीक तरह से उपलब्ध कराया गया और अच्छी देखभाल हुई जिसके कारण भुखमरी का कोई मामला नहीं है। इनमें से ज्यादातर युवा या मध्यम आयुवर्ग के हैं और इसके कारण भी उन्हें स्वस्थ रहने में मदद मिली।’’
अस्पताल से जाने की अनुमति मिलने के बाद श्रमिकों को उनके घर भेजे जाने के प्रबंधन में लगे देहरादून के अपर जिलाधिकारी रामजी शरण शर्मा ने बताया कि उनकी जल्द वापसी सुनिश्चित की जा रही है।
उन्होंने बताया कि श्रमिकों के गृह राज्यों के नोडल अधिकारी लगातार स्थानीय प्रशासन के संपर्क में हैं और आज या कल तक उनकी घर वापसी हो जाएगी।
देहरादून की जिलाधिकारी सोनिका ने बताया कि श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने के लिए उनकी सुविधा के अनुसार सड़क मार्ग, रेलमार्ग या हवाई मार्ग से भेजने की व्यवस्था की जा रही है ।
श्रमिकों में सबसे ज्यादा 15 झारखंड के रहने वाले हैं, जबकि आठ उत्तर प्रदेश, पांच-पांच ओडिशा और बिहार, पश्चिम बंगाल के तीन, दो-दो उत्तराखंड और असम तथा एक हिमाचल प्रदेश का निवासी है।
एम्स में मौजूद झारखंड के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य के श्रमिकों को हवाई जहाज से ले जाया जाएगा ।
उधर, उत्तराखंड के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) गुरमीत सिंह ने भी एम्स ऋषिकेश पहुंचकर श्रमिकों का हालचाल जाना और उनके साहस व हौसलों की सराहना की।
बाद में मीडिया से बात करते हुए राज्यपाल ने कहा कि श्रमिकों के मनोबल, उनके परिजनों के धैर्य तथा बचाव अभियान में शामिल सभी एजेंसियों और कार्मिकों की अथक मेहनत के बाद यह चुनौतीपूर्ण अभियान सफल हो पाया।
उन्होंने कहा कि इन 41 श्रमवीरों ने हमें सबक दिया है कि किस भी तरह की मुश्किल घड़ी में अपने आप पर नियंत्रण रखें और अपने हौसला न टूटने दें। उन्होंने कहा कि उन्होंने हमें यह भी बताया है कि हमारे मानव संसाधन बहुत ऊंचे दर्जे के हैं।
इस बीच, राष्ट्रीय राजमार्ग एवं अवसंरचना विकास निगम की ओर से सुरंग का निर्माण करने वाली ‘नवयुग इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड’ ने सुरंग में फंसे रहे प्रत्येक श्रमिक को आर्थिक सहायता के रूप में दो-दो लाख रुपये का चेक देने तथा उनके डयूटी पर लौटने पर दो माह का वेतन बोनस के रूप में देने की घोषणा की है ।
कंपनी के मानव संसाधान विभाग के प्रमुख राजीव ने बताया कि कंपनी ने सुरंग में फंसे प्रत्येक कर्मचारी, चाहे वह किसी भी कैडर या पद पर हो, दो—दो लाख रुपये का मुआवजा दिया है ।
उन्होंने कहा कि प्रबंधन ने मौके पर मौजूद सभी कर्मचारियों को दो माह का वेतन बोनस के तौर पर देने का भी निर्णय किया है। उन्होंने कहा कि हमने अपने सभी कर्मचारियों से काम पर लौटने से पहले कुछ दिन आराम करने की भी सलाह दी है ।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | न्यायिक अधिकारियों के लिए कामकाज की गरिमामय परिस्थितियां सुनिश्चित करना सरकार का दायित्व : न्यायालय

नयी दिल्ली, 30 नवंबर उच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार का यह दायित्व है कि न्यायिक अधिकारियों को कामकाज करने के लिए गरिमामय परिस्थितियां मिलें और उन्हें सेवानिवृत्ति के बाद मानवीय गरिमा से वंचित करने के लिए संसाधनों के अभाव को कारण नहीं बताया जा सकता।
न्यायालय ने कहा कि जिला न्यायपालिका के सदस्य नागरिकों के मामले सबसे पहले सुनते हैं।
प्रधान न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़़ की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ ने कहा कि न्यायपालिका की स्वतंत्रता कानून के शासन में आम नागरिकों का विश्वास बनाए रखने के लिए जरूरी है। पीठ ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि न्यायाधीश वित्तीय गरिमा के साथ जीवन जी सकें।
न्यायालय ने कहा, ‘‘सरकार पर न्यायिक अधिकारियों के लिए कामकाज की सम्मानजनक परिस्थितियां सुनिश्चित करने का सकारात्मक दायित्व है। वह (सरकार) सेवा की उपयुक्त परिस्थितियां बनाए रखने के लिए आवश्यक वित्तीय बोझ या खर्च बढ़ने का बचाव नहीं कर सकती।’’
पीठ ने कहा कि न्यायिक अधिकारी अपने कामकाजी समय का सबसे बड़ा हिस्सा संस्था की सेवा में बिताते हैं। न्यायिक कार्यालय की प्रकृति अक्सर कानूनी कामकाज को पंगु कर देती है…सरकार के लिए यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि (न्यायिक अधिकारी) सेवानिवृत्ति के बाद, मानवीय गरिमा के साथ रह सकें।’’
शीर्ष न्यायालय ने कहा कि देश भर में न्यायिक अधिकारी जिन परिस्थितियों में काम करते हैं, वह कठिन है और उनका कामकाज अदालत में न्यायिक कर्तव्यों के निर्वहन की अवधि तक ही सीमित नहीं है।
इसने कहा कि हर न्यायिक अधिकारी को अदालत के कामकाज की अवधि से पहले और बाद में काम करना पड़ता है।
न्यायालय ने ऑल इंडिया जजेज एसोसिएशन द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। याचिका, न्यायिक अधिकारियों के वेतन और कामकाज की परिस्थितियां पर दायर की गई थी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | उत्तर तमिलनाडु में हल्की वर्षा, चेन्नई व आसपास के इलाकों में भरा पानी

चेन्नई, 30 नवंबर तमिलनाडु के उत्तरी तटीय क्षेत्र में बृहस्पतिवार को हल्की बारिश हुई, जबकि चेन्नई शहर और आसपास के कई हिस्सों में तेज़ बारिश के कारण कई इलाकों में पानी भर गया जिससे यातायात बाधित हुआ और लोगों को परेशानी हुई।
चेन्नई और उसके उपनगरों में बुधवार को 10 सेंटीमीटर (सेमी) से 19 सेमी तक की भारी वर्षा के बाद, कई रिहायशी इलाकों, मुख्य सड़कों और प्रमुख चौराहे पानी भर गया। बुधवार से अब तक यहां बारिश से संबंधित घटनाओं में कम से कम चार मौत हो चुकी हैं।
क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र (आरएमसी) ने कहा कि तमिलनाडु और पुडुचेरी में चार दिसंबर तक हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है। तमिलनाडु में उत्तरी तटीय क्षेत्र में भारी से बहुत भारी बारिश होने के आसार हैं।
बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्व में दिख रहा निम्न दबाव क्षेत्र का एक दिसंबर तक कम दबाव के रूप में और केंद्रित हो सकता। धीरे-धीरे यह तीन दिसंबर तक एक चक्रवाती तूफान के रूप में बदल जाएगा।
चक्रवाती तूफान के चार दिसंबर की सुबह उत्तरी तमिलनाडु और दक्षिणी आंध्र प्रदेश के तटों तक पहुंचने के आसार है।
राजधानी के कई हिस्सों और आसपास के तिरुवल्लुर, कांचीपुरम और चेंगलपेट जिलों में बृहस्पतिवार को यातायात जाम देखा गया।
रात भर बारिश जारी रहने की वजह से स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी गई। साथ ही निचले इलाकों में स्थित कुछ घरों में पानी घुस गया और बिजली भी गुल हो गई।
मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने स्थिति की समीक्षा के लिए बृहद चेन्नई निगम (जीसीसी) में शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की। स्टालिन ने जीसीसी के कमान एवं नियंत्रण केंद्र में संपर्क करने वाले लोगों से फोन पर बात भी की और अधिकारियों को तुरंत उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।
बाद में सोशल मीडिया मंच‘एक्स’ पर एक पोस्ट में स्टालिन ने कहा कि प्रशासन बारिश के पानी की तेज़ी से निकाल रहा हैं।
क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र ने कहा कि तिरुवल्लूर में सबसे ज्यादा 19 सेमी बारिश हुई है।
चेन्नई और आसपास के जिलों के अलावा, कुड्डालोर और विल्लुपुरम सहित तमिलनाडु के उत्तरी तटीय क्षेत्र के कई अन्य हिस्सों में बारिश हुई। तंजावुर सहित कावेरी डेल्टा क्षेत्रों में बुधवार को दो सेमी से तीन सेमी वर्षा हुई।
वर्षा के पानी को निकालने के लिए किए जा रहे काम का निरीक्षण करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए, स्वास्थ्य मंत्री एम. सुब्रमण्यम ने कहा कि बहुत भारी बारिश के बावजूद, ‘बड़े पैमाने पर’ जलभराव नहीं हुआ।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाएंगे : मेघवाल

सोनीपत (हरियाणा), 30 नवंबर केंद्रीय कानून मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने सोनीपत के बैंयापुर गांव में ‘विकसित भारत संकल्प यात्रा’ को बतौर मुख्य अतिथि शुरुआत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में अमृतकाल में 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाएंगे।
प्रधानमंत्री मोदी ने ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत 25 वर्षों को अमृतकाल की संज्ञा दी है, जिसमें आजादी के 100 साल पूरे होने के साथ ही भारत को विकसित राष्ट्र की श्रेणी में शामिल करने का संकल्प लिया गया है।
बैंयापुर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मोदी के संदेश का सीधा प्रसारण किया गया।
मेघवाल ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी ने भारत को विकसित बनाने का संकल्प लिया है। इस स्वप्न को साकार करने के लिए विकसित भारत संकल्प यात्रा शुरू की गई है, जो 26 जनवरी तक चलेगी।’’
उन्होंने कहा, ‘‘ इसकी शुरुआत झारखंड के खूंटी से की गई थी, जो आदिवासियों के भगवान बिरसा मुंडा का गांव है। आज मुझे यात्रा में शामिल होने का मौका बैंयापुर से मिला है, यहां आकर ज्ञात हुआ कि इस गांव में टीबी के पांच मरीज हैं जिन्हें गोद लिया गया है जो स्वागत योग्य है।’’
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि समाज सुधार की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं जिसमें बदलाव अपेक्षित है।
मेघवाल ने विकसित भारत की कल्पना को समर्पित स्वरचित गीत भी सुनाया, जिसकी रचना उन्होंने मौके पर ही की।
केंद्रीय मंत्री ने घूंघट प्रथा को समाप्त करने का आह्वान करते हुए कहा कि यहां एक महिला घूंघट में मिली जिन्होंने बताया कि यह उनका संस्कार है। घूंघट प्रथा के खिलाफ उल्लेखनीय काम करने वाली राजस्थान की महिला रचना भाटिया को यहां आंत्रित करें, इससे निश्चित तौर पर जारूगरूकता फैलेगी और प्रेरणा मिलेगी।
कार्यक्रम में मौजूद सांसद रमेश कौशिक ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश को बदलने का काम किया है, जिससे विकसित भारत के स्वप्न को मजबूती मिली है। उन्होंने कहा कि आज हर कल्याणकारी योजना का लाभ हर व्यक्ति तक पहुंचाया जा रहा है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | डीडीए की योजना के तहत पेंटहाउस, एचआईजी फ्लैट के लिए पंजीकरण शुरू

नयी दिल्ली, 30 नवंबर दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) की नयी आवासीय योजना के ई-नीलामी प्रारूप के तहत बृहस्पतिवार को ‘पेंटहाउस’, सुपर एचआईजी (उच्च आय समूह) और अन्य फ्लैट के लिए पंजीकरण प्रारंभ हो गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
डीडीए ने ई-विवरणिका के जरिये पंजीकरण शुरू करने की घोषणा की है। इन फ्लैट को ई-नीलामी प्रारूप के जरिये आवंटित किया जाएगा, जिसके लिए पंजीकरण की प्रक्रिया बृहस्पतिवार को शुरू हुई।
दिवाली विशेष आवासीय योजना 2023, नवनिर्मित या शीघ्र तैयार होने वाले फ्लैट की ऑनलाइन प्रक्रिया के जरिये आवंटन से संबंधित है।
द्वारका के सेक्टर-19 बी में 14 पेंटहाउस, 170 सुपर एचआईजी और 946 एचआईजी, जबकि सेक्टर-14 और लोक नायक पुरम में क्रमशः 316 और 647 एमआईजी (मध्यम आय समूह के लिए) फ्लैट हैं।
‘पेंटहाउस’ इमारत के शीर्ष पर बने बड़े कमरे वाले फ्लैट होते हैं।
अधिकारियों ने कहा कि ऑनलाइन ई-नीलामी पांच जनवरी, 2024 को शुरू होगी।
अधिकारियों के अनुसार, ‘पहले आओ पहले पाओ’ के आधार पर फ्लैट आवंटन की योजना के लिए पंजीकरण 24 नवंबर को शुरू हुआ था और यह योजना 31 मार्च 2024 को बंद हो जाएगी। इस योजना के तहत मौजूद फ्लैट नरेला, द्वारका और नायक पुरम में स्थित हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)