Horoscope Today 3 March 2024: जानें कैसा होगा आज का दिन और किस राशि की चमकेगी किस्मत

3 मार्च 2024 के दिन कैसी रहेगी आपकी आर्थिक स्थिति और कौन से राशि की चमकेगी किस्मत? इसी कड़ी में पेश है बुधवार यानि आज का राशिफल

मेष: आस-पास के लोगों का सहयोग आपको सुखद अनुभूति देगा. दिन बहुत लाभदायक नहीं है- इसलिए अपनी जेब पर नज़र रखें और ज़रूरत से ज़्यादा ख़र्चा न करें. बच्चे उम्मीदों पर खरे न उतरकर आपको निराश कर सकते हैं.
शुभांक- 9

वृष: अचानक आए अप्रत्याशित ख़र्चे आपके ऊपर आर्थिक तौर पर बोझ डाल सकते हैं. बुज़ुर्ग रिश्तेदार अपनी बेजा मांगों से आपको परेशान कर सकते हैं. व्यक्तिगत संबंध संवेदनशील और नाज़ुक रहेंगे. अपने जीवनसाथी के साथ कहा-सुनी करने से बचें.
शुभांक- 7

मिथुन: आज के दिन निवेश करने से बचना चाहिए. ऐसे विवादास्पद मुद्दों पर बहस करने से बचें, जो आपके और प्रियजनों के बीच गतिरोध पैदा कर सकते हैं. आपके प्रिय के साथ कुछ मतभेद उभर सकते हैं- साथ ही अपने साथी को अपना नज़रिया समझाने में भी तकलीफ़ महसूस होगी.
शुभांक- 5

कर्क: अपने जीवनसाथी के साथ कहा-सुनी करने से बचें. इस तरह तू-तू मैं-मैं करना बेकार के आरोपों और ग़ैरज़िम्मेदाराना वाद-विवद की वजह बनता है, जो दोनों को ही भावनात्मक तौर पर चोट पहुँचा सकता है. वित्तीय अनिश्चितता आपको मानसिक तनाव दे सकती है.
शुभांक- 11

सिंह: जितना आपने सोचा था, आपका भाई उससे ज़्यादा मददगार साबित होगा. रोमांस को झटका लगेगा और आपके क़ीमती तोहफ़े भी आज जादू चलाने में विफल रहेंगे. नई चीज़ों को सीखने की आपकी ललक क़ाबिल-ए-तारीफ़ है. आपको अपने दायरे से बाहर निकलकर ऐसे लोगों से मिलने-जुलने की ज़रूरत है, जो ऊँची जगहों पर हों.
शुभांक- 4

कन्या: मानसिक और नैतिक शिक्षा के साथ शारीरिक शिक्षा भी लें, केवल तभी सर्वांगीण विकास संभव है. याद रखें कि एक स्वस्थ शरीर में ही एक स्वस्थ दिमाग़ निवास करता है. लम्बे समय से अटके मुआवज़े और कर्ज़ आदि आख़िरकार आपको मिल जाएंगे. आप दोस्तों के साथ बेहतरीन वक़्त बिताएंगे, लेकिन गाड़ी चलाते वक़्त ज़्यादा सावधानी बरतें.
शुभांक- 6

तुला : तनाव से बचने के लिए अपना क़ीमती वक़्त बच्चों के साथ गुज़ारें. आप बच्चों की उपचार करने की शक्ति महसूस करेंगे. वे आध्यात्मिक तौर पर धरती पर सबसे ज़्यादा ताक़तवर और भावनात्मक लोग हैं. उनके साथ आप ख़ुद को ऊर्जा से लबरेज़ पाएंगे. प्रोपर्टी से जुड़े लेन-देन पूरे होंगे और लाभ पहुँचाएंगे.
शुभांक- 5

वृश्चिक: आपको अपनी भावनाओं को नियन्त्रित करने में कठिनाई होगी, लेकिन आस-पास के लोगों से झगड़ा न करें नहीं तो आप अकेले रह जाएंगे. अपने प्रिय की पुरानी बातों को माफ़ करके आप अपनी ज़िंदगी में सुधार ला सकते हैं. ऐसा लगता है कि आप इस समय अपने वैवाहिक जीवन के सबसे खूबसूरत पल बिताने के लिए के लिए जा रहे हैं.
शुभांक- 1

धनु : आपको अपने काम में बहुत बड़ा फ़ैसला लेना पड़ सकता है. समय पर तेज़ क़दम उठाना आपको औरों से आगे ले जाएगा. आप अपने सहकर्मियों से कोई उपयोगी सलाह भी पा सकते हैं. उन लोगों पर नज़र रखें जो आपको ग़लत राह पर ले जा सकते हैं या फिर ऐसी जानकारी दे सकते हैं जो आपके लिए नुक़सानदेह साबित हो सकती है.
शुभांक- 9

मकर : आप घूमने-फिरने और पैसे ख़र्च करने के मूड में होंगे- लेकिन अगर आपने ऐसा किया तो बाद में आपको पछताना पड़ सकता है. आपको परिवार के सदस्यों के साथ थोड़ी दिक़्क़त होगी, लेकिन इस वजह से अपनी मानसिक शान्ति भंग न होने दें. आपकी थकी और उदास ज़िन्दगी आपके जीवन-साथी को तनाव दे सकती है.
शुभांक- 11

कुंभ: भागदौड़ भरे दिन के बावजूद आप फिर ऊर्जा और ताज़गी पाने में क़ामयाब रहेंगे. निवेश से जुड़े अहम फ़ैसले किसी और दिन के लिए छोड़ देने चाहिए. पुरखों की जायदाद की ख़बर पूरे परिवार के लिए ख़ुशी ला सकती है. बच्चे उम्मीदों पर खरे न उतरकर आपको निराश कर सकते हैं. सपनों को साकार करने के लिए उन्हें प्रोत्साहन देने की ज़रूरत है.
शुभांक- 2

मीन: शांत और तनाव-रहित रहने की कोशिश करें, इससे आपकी मानसिक दृढ़ता बढ़ेगी. अचानक आए अप्रत्याशित ख़र्चे आपके ऊपर आर्थिक तौर पर बोझ डाल सकते हैं. आप दोस्तों के साथ बेहतरीन वक़्त बिताएंगे, लेकिन गाड़ी चलाते वक़्त ज़्यादा सावधानी बरतें. आपका रचनात्मक काम आस-पास के लोगों को अचरज में डाल देगा और आपको काफ़ी सराहना मिलेगी.
शुभांक- 1

देश की खबरें | प्रधानमंत्री मोदी का काम बोलता है, राजग लोकसभा चुनाव में 400 का आंकड़ा पार करेगा: भाजपा उम्मीदवार

नयी दिल्ली, दो मार्च भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा शनिवार को दिल्ली की पांच लोकसभा सीट पर घोषित उम्मीदवारों ने शनिवार को दावा किया कि पार्टी के नेतृत्व वाला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अच्छे काम के बलबूते 400 का आंकड़ा पार कर जाएगा।
भाजपा की पूर्व दिग्गज नेता सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज ने उन्हें जिम्मेदारी देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा और पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं को धन्यवाद दिया।
उन्होंने कहा, ‘‘मैंने इस जिम्मेदारी को हल्के में नहीं लिया है।’’
पश्चिमी दिल्ली से भाजपा उम्मीदवार कमलजीत सहरावत ने कहा कि निर्वाचन क्षेत्र के लिए उनके नाम की घोषणा उनके लिए एक ‘‘बड़ा आश्चर्य’’ है।
उन्होंने ‘पीटीआई वीडियो’ से कहा, ‘‘यह मेरे लिए बड़ी हैरानी वाली बात है। मैंने सोचा भी नहीं था कि यह अवसर मुझे दिया जाएगा और मैं पार्टी के किसी भी अन्य सामान्य कार्यकर्ता की तरह काम कर रही थीं।’’
चांदनी चौक से भाजपा उम्मीदवार प्रवीण खंडेलवाल ने विश्वास जताया कि वह रिकॉर्ड अंतर से जीतेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘चांदनी चौक सीट पर कोई चुनौती नहीं है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किया गया काम खुद बोलता है। इस बार लोकसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद हम 400 का आंकड़ा पार कर लेंगे।’’
उत्तर पूर्वी दिल्ली से दो बार के सांसद मनोज तिवारी को तीसरी बार इस क्षेत्र से पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी सभी के लिए उम्मीद का केंद्र बन गए हैं।
दक्षिण दिल्ली सीट से भाजपा द्वारा मैदान में उतारे गए रामवीर सिंह बिधूड़ी ने आम चुनाव लड़ने का मौका दिए जाने पर प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के शीर्ष नेताओं को धन्यवाद दिया।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए पहली सूची में 34 मौजूदा सांसदों के स्थान पर नये चेहरों को मौका दिया

नयी दिल्ली, दो मार्च भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शनिवार को आगामी लोकसभा चुनाव के लिए 195 उम्मीदवारों के नामों के साथ अपनी पहली सूची जारी करते हुए 34 मौजूदा सांसदों के स्थान पर नए चेहरों को मौका दिया है।
भाजपा ने सूची में असम की 11 लोकसभा सीट के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा की। इनमें से छह उम्मीदवार मौजूदा सांसद हैं जबकि अन्य पांच नए चेहरे हैं।
पार्टी ने परिमल शुक्लाबैद्य को सिलचर लोकसभा क्षेत्र से मैदान में उतारा है, जहां 2019 के आम चुनाव में राजदीप रॉय ने जीत हासिल की थी।
स्वायत्त जिला (सुरक्षित) सीट से पार्टी के उम्मीदवार अमर सिंह टिसो चुनाव लड़ेंगे। इस सीट पर वर्तमान में होरेन सिंग बे सांसद हैं। बिजुली कलिता मेधी गुवाहाटी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगी जो अभी रानी ओझा के पास है।
रंजीत दत्ता तेजपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे, जिस पर 2019 में पल्लब लोचन दास ने जीत दर्ज की थी।
भाजपा ने मौजूदा सांसद रामेश्वर तेली को हटाकर केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल को डिब्रूगढ़ निर्वाचन क्षेत्र से अपना उम्मीदवार बनाया है।
छत्तीसगढ़ की 11 सीट के लिए भाजपा उम्मीदवारों की सूची में चार चेहरे नये शामिल हैं।
जांजगीर चांपा (सुरक्षित) निर्वाचन क्षेत्र से, मौजूदा सांसद गुहाराम अजगल्ले की जगह पार्टी के उम्मीदवार कमलेश जांगड़े चुनाव लड़ेंगे। रायपुर से, भाजपा के वरिष्ठ नेता बृजमोहन अग्रवाल मैदान में उतरेंगे, न कि सुनील कुमार सोनी जिन्होंने 2019 में यह सीट जीती थी।
राज्य की महासमुंद सीट से मौजूदा सांसद चुन्नी लाल साहू की जगह भाजपा उम्मीदवार रूप कुमारी चौधरी लोकसभा चुनाव लड़ेंगी। कांकेर (सुरक्षित) सीट पर मौजूदा सांसद मोहन मंडावी की जगह भाजपा उम्मीदवार भोजराज नाग ने ले ली।
भाजपा ने दिल्ली में लोकसभा सीट के लिए पांच उम्मीदवारों की घोषणा की, जिनमें से चार मौजूदा सांसदों के स्थान पर नये चेहरों को मौका दिया गया है।
पार्टी ने दो बार के सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री हर्ष वर्धन को हटाकर प्रवीण खंडेलवाल को चांदनी चौक लोकसभा सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है।
पश्चिमी दिल्ली सीट से भाजपा ने दो बार के सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा की जगह कमलजीत सहरावत को टिकट दिया है। इसमें भाजपा की दिवंगत नेता सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज को नई दिल्ली लोकसभा सीट से अपना उम्मीदवार बनाया गया है, जिस पर वर्तमान में केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी सांसद हैं।
दक्षिणी दिल्ली से भाजपा ने रमेश बिधूड़ी को हटाकर रामवीर सिंह बिधूड़ी को अपना उम्मीदवार बनाया है।
भाजपा ने गुजरात की 26 लोकसभा सीट में से 15 के लिए उम्मीदवार घोषित कर दिये। भाजपा ने राज्य से पांच मौजूदा सांसदों के टिकट काट दिये हैं जबकि केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया और परषोत्तम रूपाला को टिकट दिया है।
जिन मौजूदा सांसदों के टिकट काटे गए हैं उनमें राजकोट से पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री मोहन कुंडारिया, पोरबंदर से रमेश धादुक, अहमदाबाद पश्चिम से किरीट सोलंकी, बनासकांठा से परबत पटेल और पंचमहाल से रतनसिंह राठौड़ शामिल हैं।
कुंडारिया के स्थान पर राजकोट से केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री परषोत्तम रूपाला चुनाव लड़ेंगे। रूपाला अमरेली जिले से आते हैं। भावनगर जिले के रहने वाले मांडविया को धादुक के स्थान पर पोरबंदर से मैदान में उतारा गया है।
भाजपा ने अहमदाबाद पश्चिम (आरक्षित) सीट पर किरीट सोलंकी की जगह दिनेश मकवाना को टिकट दिया है, जबकि पंचमहाल में मौजूदा सांसद रतनसिंह राठौड़ की जगह राजपालसिंह जाधव को टिकट दिया गया है।
भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए झारखंड की 14 में से 11 सीट पर प्रत्याशियों के नाम घोषित किए गए।
झारखंड में भाजपा ने मनीष जयसवाल को हज़ारीबाग़ सीट से मैदान में उतारा है, जो फिलहाल पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के बेटे जयंत सिन्हा के पास है। लोहरदगा (एसटी) सीट पर तीन बार के सांसद सुदर्शन भगत की जगह समीर ओरांव को टिकट दिया गया है।
मध्य प्रदेश के लिए अपने उम्मीदवारों की सूची में, भाजपा ने सात मौजूदा सांसदों की जगह नए चेहरों को शामिल किया है।
पार्टी ने ग्वालियर लोकसभा सीट से मौजूदा सांसद विवेक नारायण शेजवलकर की जगह भरत सिंह कुशवाह को उम्मीदवार बनाया है।
गुना से मौजूदा सांसद कृष्णपाल सिंह यादव को हटाकर इस सीट से केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को मैदान में उतारा गया है।
भाजपा उम्मीदवार लता वानखेड़े सागर लोकसभा सीट से मैदान में उतरेंगी, जो वर्तमान में राजबहादुर सिंह के पास है। वीरेंद्र खटीक टीकमगढ़ (सुरक्षित) सीट से चुनाव लड़ेंगे।
भाजपा ने विदिशा से सांसद रमाकांत भार्गव को हटाकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को इस सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है।
आलोक शर्मा भोपाल सीट से उम्मीदवार होंगे, जिस पर वर्तमान में साध्वी प्रज्ञा सिंह पार्टी सांसद है।
रतलाम (सुरक्षित) सीट से पार्टी उम्मीदवार अनीता नागर सिंह चौहान चुनाव लड़ेंगी। इस सीट पर वर्तमान में गुमान सिंह डामोर भाजपा सांसद हैं।
भाजपा ने राजस्थान में 15 लोकसभा सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा की, जिसमें पांच मौजूदा सांसदों की जगह नए चेहरों को शामिल किया गया है, जो चुरू, भरतपुर, जालौर, उदयपुर और बांसवाड़ा से चुनाव लड़ेंगे।
पार्टी ने त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब को त्रिपुरा पश्चिम सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है, जो वर्तमान में पार्टी सांसद प्रतिमा भौमिक के पास है।
भाजपा ने पश्चिम बंगाल में अलीपुरद्वारा (सुरक्षित) सीट से मनोज तिग्गा को मैदान में उतारा है जहां से जॉन बारला मौजूदा सांसद हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | दिल्ली के हौज खास में वकील पर हमला करने वाले दो लोग गिरफ्तार: पुलिस

नयी दिल्ली, दो मार्च दक्षिणी दिल्ली के हौज खास में एक वकील के साथ मारपीट करने और उसकी कार में अपने वाहन से टक्कर मारने के आरोप में एक महिला कांस्टेबल ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी।
पुलिस के मुताबिक आरोपियों की पहचान उत्तर प्रदेश के आगरा निवासी रविंदर सिंह (29) और दीपक (34) के रूप में हुई है।
पुलिस के अनुसार एक व्यक्ति ने शुक्रवार को पुलिस को सूचित किया कि वह एक सड़क दुर्घटना में शामिल था और दो लोगों ने उस पर हमला किया था।
पुलिस हौज खास गांव में घटनास्थल पर पहुंची और कॉल करने वाले कर्मण्य सिंह (24) को ढूंढ लिया।
पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वकील कर्मण्य सिंह ने पुलिस को बताया कि वह अपने कार्यालय से आ रहे थे और जैसे ही उनकी कार जगन्नाथ मंदिर के पास पहुंची, एक अन्य वाहन ने उन्हें ओवरटेक किया और टक्कर मार दी।
सिंह ने पुलिस को बताया कि दो लोग कार से बाहर आए, उन पर हमला किया और हौज खास गांव की ओर भाग गए।
अधिकारी ने कहा कि हमलावर रविंदर, जो नशे की हालत में था, ने भागते समय बंदूक भी निकाली और हवा में लहराई। उन्होंने बताया कि कांस्टेबल वनरुलाती ने आरोपी को पकड़ लिया।
पुलिस ने बताया कि रविंदर आगरा में एक रेस्तरां में काम करता है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | न्यायालय सांसदों-विधायकों को अभियोजन से छूट देने के मामले में चार मार्च को सुनाएगा फैसला

नयी दिल्ली, दो मार्च उच्चतम न्यायालय चार मार्च को इस संबंध में अपना फैसला सुनाएगा कि क्या सांसदों और विधायकों को विधायिका में भाषण देने या वोट डालने के लिए रिश्वत लेने पर अभियोजन से छूट है।
उच्चतम न्यायालय की सात न्यायाधीशों की पीठ ने 1998 के फैसले पर पुनर्विचार के संबंध में पांच अक्टूबर 2023 को अपना निर्णय सुरक्षित रख लिया था, जिसमें कहा गया था कि सांसदों और विधायकों को सदन में भाषण देने या वोट देने के लिए रिश्वत लेने पर अभियोजन से छूट प्राप्त है।
प्रधान न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने अटॉर्नी जनरल आर वेंकटरमनी और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता सहित कई वरिष्ठ वकीलों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रखा था।
वृहद पीठ झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) रिश्वत मामले में 1998 में पांच न्यायाधीशों की पीठ द्वारा सुनाए गए फैसले पर पुनर्विचार कर रही है, जिसके द्वारा सांसदों और विधायकों को सदन में भाषण देने या वोट देने के संबंध में रिश्वत के लिए अभियोजन से छूट दी गई थी। देश को झकझोर देने वाले झामुमो रिश्वत कांड के 25 साल बाद शीर्ष अदालत फैसले पर दोबारा विचार कर रही है।
सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मामले में दलीलें रखते हुए अदालत से संविधान के अनुच्छेद 105 के तहत छूट के पहलू पर नहीं जाने का आग्रह किया था। मेहता ने कहा था, ‘‘रिश्वतखोरी का अपराध तब होता है जब रिश्वत दी जाए और कानून निर्माताओं (सांसद-विधायक) द्वारा स्वीकार की जाए। इससे भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत निपटा जा सकता है।’’
अदालत ने सुनवाई के दौरान कहा कि वह इस मामले पर सुनवाई करेगी कि यदि सांसदों व विधायकों के कृत्यों में आपराधिकता जुड़ी है तो क्या उन्हें तब भी छूट दी जा सकती है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | एक देश की वजह से दक्षेस के पुनरुद्धार की संभावना नहीं : भारत

नयी दिल्ली, दो मार्च विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पाकिस्तान में नयी सरकार के गठन से पहले शनिवार को क्षेत्रीय समूह दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (दक्षेस) के पुनरुद्धार की किसी भी तत्काल संभावना से इनकार कर दिया।
जयशंकर ने पाकिस्तान पर आतंकवाद के ‘टूलकिट’ का विभिन्न तरीकों से दक्षेस के सदस्यों समेत अन्य देशों के खिलाफ इस्तेमाल करने का भी आरोप लगाया।
जयशंकर ने अनंत एस्पेन सेंटर में एक ‘थिंकटैंक’ के संवाद सत्र में सीधे तौर पर पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि दक्षेस संकट में है क्योंकि इसका एक सदस्य देश लगातार आतंकवाद का समर्थन कर रहा है।
विदेश मंत्री ने कहा,‘‘ यदि आप मुझसे पूछते हैं कि क्या मैं दक्षेस के लिए कोई भविष्य देखता हूं, तो वास्तव में आप मुझसे पूछ रहे हैं कि क्या मैं उस देश के लिए कोई भविष्य देखता हूं। क्योंकि अगर वह देश वास्तव में अपने शस्त्रागार या टूलकिट में इस प्रकार के विकल्पों को नहीं छोड़ता है, तो यह सिर्फ दक्षेस नहीं है जो खतरे में है। मेरा मतलब है, बहुत स्पष्ट रूप से, आप उस देश की स्थिति को भी देख रहे हैं।’’
यह पूछे जाने पर कि क्या भारत को उसके पड़ोसी देश दबंग मानते हैं, जयशंकर ने कहा, ‘‘ जब पड़ोसी देश मुसीबत में होते हैं तो दबदबा बनाने वाला बड़ा देश 4.5 अरब अमेरिकी डॉलर नहीं देता है। जब कोविड (महामारी) चल रही थी, तब दबदबा बनाने वाले बड़े देशों ने अन्य देशों को टीके की आपूर्ति नहीं की और भोजन की मांग, ईंधन की मांग, उर्वरक की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए अपने स्वयं के नियमों में अपवाद बना दिया क्योंकि दुनिया के किसी अन्य हिस्से में युद्ध ने उनके जीवन को जटिल बना दिया था। ’’
विदेश मंत्री ने कहा कि दक्षेस संकट में है क्योंकि इसका एक सदस्य आतंकवाद का समर्थन कर रहा है।
दक्षेस दक्षिण एशियाई देशों का एक संगठन है जिसमें भारत, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, मालदीव, नेपाल, पाकिस्तान और श्रीलंका शामिल हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘ बहुत ईमानदारी से, पड़ोस में हमारी समस्या, एक देश के साथ है। कूटनीति में, आप हमेशा उम्मीदें बनाए रखते हैं। एक दिन कौन जानता है कि भविष्य में क्या होगा। ’’
एस जयशंकर ने शनिवार को कृत्रिम बुद्धिमत्ता और डीपफेक जैसी नयी तकनीकों से राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा होने वाले खतरों के प्रति आगाह किया और कहा कि साइबर डोमेन के माध्यम से विदेशी हस्तक्षेप के प्रयास बढ़ रहे हैं।
जयशंकर ने कहा कि साइबर डोमेन से निकलने वाले खतरों से सावधान रहने की जरूरत है।
उन्होंने कहा, ‘‘जब हम सुरक्षा के बारे में सोचते हैं, तो यह केवल सीमाओं की रक्षा नहीं है, यह अकेले आतंकवाद का मुकाबला नहीं है… बल्कि दैनिक दिनचर्या है, जो आज हेरफेर के लिए अतिसंवेदनशील है और यह बढ़ रही है।’’
जयशंकर ने कहा, ‘‘मैं स्पष्ट रूप से कहूंगा कि आज इस देश में कई मायनों में विदेशी हस्तक्षेप बढ़ रहा है। सामान्य व्यक्ति के लिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि दुनिया कैसे बदल रही है क्योंकि यह एआई (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) और डीपफेक का युग है। ’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | भाजपा की पहली सूची जारी, मोदी फिर वाराणसी से चुनाव लड़ेंगे, चार मंत्रियों के टिकट कटे

नयी दिल्ली, दो मार्च भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर शनिवार को 16 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों के लिए 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक बार फिर वाराणसी से, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह गांधीनगर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ से चुनाव लड़ेंगे।
भाजपा महासचिव विनोद तावड़े ने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत जय पांडा और मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी की मौजूदगी में यहां पार्टी मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की। इस सूची में 34 केंद्रीय मंत्रियों के नाम शामिल हैं जबकि चार मंत्रियों के टिकट काट दिए गए है।
विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी का टिकट काटकर उनकी जगह पूर्व केंद्रीय मंत्री दिवंगत सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज को उम्मीदवार बनाया गया है जबकि अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय में राज्यमंत्री जॉन बारला की जगह अलीपुरद्वार से विधायक मनोज तिग्गा को पार्टी ने टिकट दिया है।
खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय में राज्य मंत्री रामेश्वर तेली का डिब्रूगढ़ से टिकट काट दिया गया है और उनकी जगह केंद्रीय मंत्री सर्वानंद सोनोवाल को उम्मीदवार बनाया गया है। सोनोवाल वर्तमान में राज्यसभा के सदस्य हैं।
इस सूची में दो पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और विप्लब देब के अलावा लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला का भी नाम शामिल है। बिरला एक बार फिर कोटा से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे। चौहान विदिशा से जबकि देब त्रिपुरा पश्चिम सीट से चुनाव लड़ेंगे।
त्रिपुरा पश्चिम से केंद्रीय मंत्री प्रतिमा भौमिक का टिकट काटकर देब को उम्मीदवार बनाया गया है। इस प्रकार पार्टी ने चार केंद्रीय मंत्रियों को टिकट नहीं दिया है।
पार्टी की पहली सूची में 28 महिलाएं और 47 युवा शामिल हैं जबकि 27 उम्मीदवार अनुसूचित जाति से, 18 अनुसूचित जनजाति से और 57 अन्य पिछड़ा वर्ग से हैं।
सूची में उत्तर प्रदेश की 51 सीट, पश्चिम बंगाल की 20, मध्य प्रदेश की 24, गुजरात और राजस्थान की 15-15 सीट, केरल और तेलंगाना की 12-12 सीट, झारखंड, छत्तीसगढ़ और असम की 11 सीट तथा दिल्ली की पांच सीट सहित कुछ अन्य प्रदेशों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के उम्मीदवार की घोषणा की गई है।
दिल्ली की सूची सबसे अधिक चौंकाने वाली रही। पार्टी ने लेखी के अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन, दक्षिणी दिल्ली से सांसद रमेश विधूड़ी, पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा के बेटे एवं पश्चिमी दिल्ली से सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा के टिकट काट दिए हैं। बिधूड़ी ने पिछले दिनों संसद में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के सांसद दानिश अली के लिए आपत्तिजनक टिप्पणियां की थी। पार्टी ने उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी को फिर से टिकट दिया है।
रमेश बिधूड़ी की जगह दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता रामवीर सिंह बिधूडी, हर्षवर्धन की जगह व्यापारी नेता प्रवीण खंडेलवाल, प्रवेश वर्मा की जगह महिला नेता कमलजीत सेहरावत को पार्टी ने उम्मीदवार बनाया है।
इन 195 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए उम्मीदवारों की सूची में लगभग 155 सीट वे हैं जो पार्टी ने 2019 के चुनावों में जीती थीं। इस सूची में, पार्टी ने अपने 20 प्रतिशत से अधिक सांसदों को हटा दिया है।
सात मंत्री, जो राज्यसभा के सदस्य हैं या जिनका कार्यकाल खत्म हो रहा है, उन्हें लोकसभा के चुनाव मैदान में उतारा गया है।
सूची के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर केरल के तिरुवनंतपुरम से, सर्बानंद सोनोवाल असम की डिब्रूगढ़ सीट से, केंद्रीय मंत्री किरेन रीजीजू अरुणाचल पूर्व से, भूपेंद्र यादव राजस्थान के अलवर से, ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्य प्रदेश के गुना से, संजीव बालियान मुजफ्फरनगर और स्मृति ईरानी अमेठी से चुनाव लड़ेंगी।
भाजपा ने जिन अन्य केंद्रीय मंत्रियों की उम्मीदवारी की घोषणा की है उनमें परषोत्तम रुपाला (राजकोट), मनसुख मांडविया (पोरबंदर), देवुसिंह चौहान (खेड़ा), अर्जुन राम मेघवाल (बीकानेर), गजेंद्र सिंह शेखावत (जोधपुर) कैलाश चौधरी (बाड़मेर), जितेंद्र सिंह (उधमपुर), अन्नपूर्णा देवी (कोडरमा), अर्जुन मुंडा (खूंटी), वी मुरलीधरन (अट्टिंगल), वीरेंद्र खटीक (टीकमगढ़), फग्गन सिंह कुलस्ते (मंडला), जी किशन रेड्डी (सिकंदराबाद), सत्यपाल सिंह बघेल (आगरा), अजय मिश्रा ‘टेनी’ (खीरी), कौशल किशोर (मोहनलालगंज), भानु प्रताप वर्मा (जालौन), साध्वी निरंजन ज्योति (फतेहपुर), पंकज चौधरी (महाराजगंज), निसिथ प्रामाणिक (कूचबिहार), शांतनु ठाकुर (बनगांव) और सुभाष सरकार (बांकुड़ा) के नाम शामिल हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | देश में समाचारपत्रों के पंजीकरण के लिए नया कानून लागू हुआ

नयी दिल्ली, दो मार्च देश में समाचारपत्रों और पत्रिकाओं का पंजीकरण अब बेहद आसान हो गया है क्योंकि नए कानून ने 1867 के औपनिवेशिक युग के प्रेस और पुस्तक पंजीकरण अधिनियम की जगह ले ली है।
एक आधिकारिक आदेश के मुताबिक सरकार ने ऐतिहासिक प्रेस और पत्रिकाओं का पंजीकरण (पीआरपी) अधिनियम, 2023 और इसके नियमों को अपने राजपत्र में अधिसूचित कर दिया है और इसके परिणामस्वरूप यह अधिनियम एक मार्च, 2024 से लागू हो गया है।
अब से, पत्रिकाओं का पंजीकरण प्रेस और पत्रिकाओं के पंजीकरण अधिनियम (पीआरपी अधिनियम), 2023 तथा प्रेस और पत्रिकाओं के पंजीकरण नियमों के प्रावधानों के अनुसार होगा।
अधिसूचना के अनुसार, भारत के प्रेस रजिस्ट्रार जनरल का कार्यालय- पीआरजीआई, जिसे पहले रजिस्ट्रार ऑफ न्यूजपेपर्स फॉर इंडिया के नाम से जाना जाता था, नए अधिनियम के उद्देश्यों को पूरा करेगा।
नया अधिनियम देश में समाचारपत्रों और अन्य पत्रिकाओं के पंजीकरण की सुविधा के लिए एक ऑनलाइन प्रणाली प्रदान करेगा। नयी प्रणाली मौजूदा मैनुअल, बोझिल प्रक्रियाओं को बदल देगी। पुरानी प्रक्रिया में कई चरणों में अनुमोदन शामिल होते हैं जो प्रकाशकों के लिए अनावश्यक कठिनाइयों का कारण बन रहे थे।
इससे पहले, केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने नए अधिनियम के अनुसार विभिन्न आवेदन प्राप्त करने के लिए प्रेस रजिस्ट्रार जनरल का ऑनलाइन पोर्टल, प्रेस सेवा पोर्टल शुरू किया था।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | भाजपा नेता की हत्या के बाद माओवादियों ने कांग्रेस के पक्ष में नारे लगाए : पार्टी विधायक

बीजापुर, दो मार्च छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में भाजपा नेता की हत्या के एक दिन बाद पार्टी के वरिष्ठ विधायक और पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने इस घटना को ‘लक्षित’ हत्या करार दिया और दावा किया कि हमलावरों ने माओवादी आंदोलन के साथ-साथ कांग्रेस पार्टी की सराहना करते हुए नारे लगाए थे।
सत्तारूढ़ पार्टी के जिला स्तर के नेता और जनपद पंचायत के सदस्य तिरुपति कटला की शुक्रवार रात संदिग्ध नक्सलियों ने उस समय हत्या कर दी जब वह बीजापुर जिले के तोयनार गांव में एक विवाह समारोह में शामिल होने गए थे।
पिछले एक वर्ष में राज्य के माओवाद प्रभावित इलाकों में संदिग्ध नक्सलियों द्वारा किसी भाजपा नेता या सदस्य की यह सातवीं हत्या थी।
बीजापुर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले गागड़ा ने शनिवार को कटला के घर का दौरा किया और शोक संतप्त परिवार के सदस्यों के प्रति संवेदना व्यक्त की।
बाद में संवाददाताओं से बात करते हुए गागड़ा ने घटना की निंदा की और कहा कि वह राज्य के गृहमंत्री से भाजपा नेताओं की ‘लक्षित’ हत्याओं की घटनाओं की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) से कराने की मांग करेंगे।
गागड़ा ने कहा, ‘‘मैंने उनके (कटला के) परिवार के सदस्यों और हत्या के चश्मदीदों से बात की। उन्होंने बताया कि हत्या करने के बाद नक्सलियों ने कांग्रेस जिंदाबाद और लाल सलाम जिंदाबाद के नारे लगाए। यह एक टारगेट किलिंग थी। उनके परिवार के सदस्यों ने यह भी कहा कि उन्हें (पिछले साल विधानसभा) चुनाव से पहले धमकी दी गई थी।’’
उन्होंने कहा, ‘‘मैंने राज्य के वन मंत्री केदार कश्यप जी को इसके बारे में सूचित कर दिया है, जो शनिवार को कटला के घर गए थे। पिछले कुछ वर्षों से भाजपा नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है और उनकी हत्या की जा रही है। ये घटनाएं राजनीतिक हत्याएं थीं और इसे नक्सली घटना बताने की कोशिश की जा रही है।’’
कांग्रेस नेताओं और नक्सलियों के बीच सांठगांठ का आरोप लगाते हुए गागड़ा ने दावा किया, ‘‘कांग्रेस नेताओं और माओवादियों के निचले स्तर के सदस्यों के बीच पहले भी गहरा संबंध देखा गया है। हम इन सभी मुद्दों को राज्य के गृह मंत्री के समक्ष उठाएंगे और इसकी एनआईए जांच की मांग करेंगे।”
वहीं मंत्री केदार कश्यप ने कहा कि उन्होंने जिला पुलिस अधीक्षक से घटना की जांच कर रिपोर्ट सौंपने को कहा है।
इससे पहले उपमुख्यमंत्री और गृह मंत्री विजय शर्मा ने हत्या को लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा कार्यकर्ताओं के मन में डर पैदा करने के इरादे से किया गया कायरतापूर्ण कृत्य करार दिया।
शर्मा ने कहा, ‘‘यह कायरतापूर्ण है। इससे पहले भी भाजपा नेताओं को निशाना बनाया गया था। वे डर पैदा करना चाहते हैं क्योंकि (लोकसभा) चुनाव नजदीक हैं और (नक्सलियों के खिलाफ) कार्रवाई तेज कर दी गई है। इसलिए भय उत्पन्न करने के लिए और भाजपा के कार्यकर्ता अंदरूनी क्षेत्र में न जा सकें इसलिए यह घटनाएं की जा रही है। कुछ भी हो, यह विष्णुदेव साय की सरकार है और हमारी प्रतिबद्धता बस्तर के हर कोने तक विकास पहुंचाने की है। जो भी ऐसी बाधाएं आएंगी, हम उन्हें दूर करेंगे।”
राज्य के मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने भाजपा पर अपनी विफलता का दोष विपक्षी दल पर डालने की कोशिश करने का आरोप लगाया।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संचार शाखा के प्रमुख सुशील आनंद शुक्ला ने हत्या की घटना की निंदा करते हुए कहा,‘‘भाजपा सरकार की लापरवाही और अनिर्णय वाली नीति क़े कारण यह हत्या हुई, इस दुःखद हत्या की जिम्मेदार विष्णु देव सरकार है। कांग्रेस मांग करती है कि भाजपा सरकार अपनी नक्सलवादी नीति स्पष्ट करे। सरकार के अनिर्णय वाली स्थिति के कारण जब से प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है नक्सली गतिविधियां बढ़ी है। भाजपा की सरकार को तत्काल निर्णय लेने की आवश्यकता है। बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि सरकार अपनी विफलता का ठीकरा विपक्ष पर फोड़ना चाहती है।’’
माओवादियों द्वारा शनिवार को जारी एक कथित बयान में, उनकी नेशनल पार्क एरिया कमेटी ने कटला की हत्या की जिम्मेदारी ली है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

देश की खबरें | प्रधानमंत्री का वाराणसी से चुनाव लड़ना काशी समेत पूरे प्रदेश के लिए गर्व की बात : योगी आदित्यनाथ

लखनऊ, दो मार्च उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को तीसरी बार वाराणसी से लोकसभा प्रत्याशी बनाये जाने पर हर्ष व्यक्त करते हुए उनका प्रदेशवासियों की ओर से अभिनंदन किया।
एक बयान में योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री का वाराणसी से चुनाव लड़ना काशी समेत पूरे प्रदेश के लिए गर्व की बात है।
मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर जारी पोस्ट में कहा,‘‘भाजपा द्वारा आगामी लोक सभा चुनाव हेतु आज उत्तर प्रदेश के लिए घोषित हुए सभी प्रत्याशियों को हार्दिक बधाई!”
उन्होंने कहा, ‘‘आदरणीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की सुशासन, अंत्योदय और विकास को समर्पित ‘राष्ट्रनीति’ पर देश वासियों का अटूट विश्वास है। आप सभी की विजय सुनिश्चित है। मंगलमय शुभकामनाएं!”
उन्होंने इस पोस्ट में शनिवार को भाजपा द्वारा जारी उत्तर प्रदेश के 51 उम्मीदवारों की सूची भी साझा की है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)